logo

निम्बू का भरवा अचार ,निम्बू का खट्टा अचार ,दस सालों तक ख़राब नहीं होने वाला निम्बू का अचार

  • निम्बू का भरवा अचार ,निम्बू का खट्टा अचार ,दस सालों तक ख़राब नहीं होने वाला निम्बू का अचार

Share This

  • Cuisine : indian भारतीय
  • Course : Others

निम्बू हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत गुणकारी है निम्बू में विटामिन ‘सी’ की प्रचुर मात्रा होती है इसलिए लोग इसे किसी न किसी रूप में इसका रोजाना सेवन करते हैं | निम्बू को गर्म पानी में , सलाद में , उपर से किसी भी व्यंजन में स्वाद को बढ़ाने के लिए डाला जाता है | निम्बू को अचार के रूप में बना कर लम्बे समय तक स्टोर करके रखा जाता है | निम्बू का अचार स्वाद के सांथ – सांथ हाजमे के लिए भी बहुत अच्छा होता है , इसलिए लोग निम्बू का अचार खाना बहुत पसंद करते हैं | क्योकि निम्बू का अचार कम सामानों के सांथ बनाया जा सकता है और ये अचार लम्बे समय तक ख़राब नहीं होते हैं ..तो आइये इसे बनाना सीखें
 


Ingredients

    १ १० निम्बू
    २ ३\४ कप नमक
    ३ १ बड़े चम्मच अजवैन
    ४ १ बड़े चम्मच कालीमिर्च का पावडर
    ५ १ बड़े चम्मच जीरा
    ६ १\२ छोटे चम्मच हिंग
    ७  ५ निम्बू का रस
     

Recipe By

Method

  • १ निम्बुओं  को धो कर पोंछ लें , पतले छिलके के निम्बू लें , दिसम्बर , जनवरी के महीनो के निम्बुओं को अचार बनाने के लिए चुने |
    २ निम्बुओ को बिच से पहले आधा लम्बाई में ,आधा चौड़ाई में काटें भरवा स्टाइल से , सारे निम्बुओ को इसी प्रकार से काट लें , चाकू की सहायता से बिज जितने निकल सकते हैं उतने निकाल लें |
    ३ एक कड़ाई को गर्म कर लें गैस बंद कर दें ,जीरा और अजवैन को इसी गर्म कड़ाई में डालदें , सिर्फ नमी हटाना है इसे भूनना नहीं है , जार में डालकर दरदरा पिस लें |
    ४ एक बर्तन में नमक डालें दरदरा पिसा हुआ अजवैन , जीरा डालदें , हिंग और कालीमिर्च का पावडर डालकर मिला लें |
    ५ निम्बुओ के बिच में इस मसाले को अच्छे से दबा दबा कर भर दें , सभी निम्बुओं में |
    ६ किसी बरनी में भरे हुए निम्बुओं को रख लें , उपर से निम्बू का रस छानकर डालदें |
    ७ ढक्कन बंद करके रख दें १५ से २० दिनों में अचार गलना शुरु हो जायेगा , एक से डेढ़ महीनो में अचार खाने लायक हो जायेगा |

    टिप्स – निम्बू को बिना दाग वाला लें , बरसात के मौसम का निम्बुओं से अचार नहीं बनाया जाता है लम्बे समय तक नहीं रहते है जल्दी ख़राब हो जाते हैं , पतले छिलके के निम्बुओं से अचार बनाया जाता है |

    निम्बू को दबा कर देखें अगर निम्बू आसानी से दब रहे हैं तो वो पतले छिलके के हैं |

    जितना बिज निकाल सकें उतना निकाल लें क्योंकि बीजो की वजह से ही निम्बू का अचार कड़वा लगता है |

    निम्बू का अचार गलने में टाइम लगता है और जितना पुराना होता हैं उतना इनमे स्वाद बढता जाता है |

    ये अचार दसो सालों तक ख़राब नहीं होगा , धीरे धीरे रस सूखते जायेगा और जेली बनते जाएगी इसमें |